रामप्रसाद बिस्मिल आत्मकथा

Ramprasad Bismil Atmakatha

Hindi Other(अन्य)
Availability: In Stock
₹ 600
Quantity
  • By : Ramprasad Bismil
  • Subject : Ramprasad Bismil Atmakatha
  • Category : Biography
  • Edition : N/A
  • Publishing Year : N/A
  • SKU# : N/A
  • ISBN# : N/A
  • Packing : N/A
  • Pages : N/A
  • Binding : Hardcover
  • Dimentions : N/A
  • Weight : N/A

Keywords : Ramprasad Bismil Atmakatha

म समय निकट है। दो फाँसी की - - सजाएँ सिर पर झूल रही हैं। पुलिस को साधारण जीवन में और समाचार-पत्रों तथा पत्रिकाओं में खूब जी भर के कोसा है। खुली अदालत में जज साहब, खुफिया पुलिस के अफसर, मजिस्ट्रेट, सरकारी वकील तथा सरदार को खूब आड़े हाथों लिया है। हरेक के दिल में मेरी बातें चुभ रही हैं। कोई दोस्त, आशना अथवा यार मददगार नहीं, जिसका सहारा हो। एक परमपिता परमात्मा की याद है।गीता पाठ करते हुए संतोष है
जो कुछ किया सो रौं किया, मैं खुद की हा नाहि, जहाँ कहीं कुछ मैं किया, तुम ही थे मुझ माहिं। 'जो फल की इच्छा को त्याग करके कर्मों को ब्रह्म में अर्पण करके कर्म करता है, वह पाप में लिप्त नहीं होता। जिस प्रकार जल में रहकर भी कमलपत्र जलमय नहीं होता।' जीवनपर्यंत जो कुछ किया, स्वदेश की भलाई समझकर किया। यदि शरीर की पालना की तो इसी विचार से कि सुदृढ़ शरीर से भली प्रकार स्वदेश-सेवा हो सके। बड़े प्रयत्नों से यह शुभ दिन प्राप्त हुआ।संयुक्त प्रांत में इस तुच्छ शरीर का ही सौभाग्य होगा। जो सन् 1857 के गदर की घटनाओं के पश्चात् क्रांतिकारी आंदोलन के संबंध में इस प्रांत के निवासी का पहला

बलिदान मातृ-वेदी पर होगा।