Vedrishi

मीरपुरी सर्वस्व

Meerpuri Sarvasva

300.00

SKU 37337-VG00-0H Category puneet.trehan

In stock

Subject : Meerpuri Sarvasva, Arya samaj, God ishwar
Edition : 2016
Publishing Year : N/A
SKU # : 37337-VG00-0H
ISBN : N/A
Packing : Hardcover
Pages : 426
Dimensions : N/A
Weight : NULL
Binding : Hard Cover
Share the book

पुस्तक का नाम – मीरपुरी –सर्वस्व
लेखक पंडित बुद्धदेव मीरपुरी
पंडित बुद्धदेव मीरपुरी जी आर्यसमाज के प्रतिष्ठित शास्त्रार्थ महारथी थे |
इन्होने अनेक खोजपूर्ण ,वैदिक सिद्धांतो के पोषक ग्रंथो का निर्माण भी किया | उनके निर्माण किये हुए कुछ ग्रंथो का संकलन इस पुस्तक में है |
जो निम्न है
षडदर्शन समन्वय महर्षि दयानंद जी के भारतीय रंगमंच पर अवतीर्ण होने से पूर्व यह प्रवाद प्रचलित था कि दर्शनों में विरोध है | महर्षि ने इस भ्रान्ति का खंडन किया ,परन्तु उनके पास इतना समय नही था कि वे इस पर एक स्वतंत्र ग्रन्थ लिख पाते | पंडित बुद्धदेव मीरपुरी जी ने यह ग्रन्थ लिखकर समन्वय का अवरुद्ध मार्ग खोल दिया | आर्यजगत के प्रसिद्ध विद्वान् स्वामी वेदानन्द तीर्थ और मुक्तिरामजी ने इस पुस्तक की मुक्तकंठ से प्रशंसा की थी |
मूर्तिपूजा मीमांसा इसमें पंडित जी ने वेद और पुराणों से यह सिद्ध किया है कि मूर्तिपूजा नही करनी चाहिए | मूर्तिपूजा के सम्बन्ध में जितने तर्क दिए जाते है उनका युक्ति युक्त समाधान प्रस्तुत किया गया है |
अवतार वाद मीमांसा इसमें वेद ,रामायण , महाभारत और पुराणों से यह सिद्ध किया गया है कि ईश्वर अवतार नही लेता |
इसके अतिरिक्त अन्य आठ ट्रेक्ट निम्न है
१ विवाह 
२ मृतक श्राद्ध खंडन
३ धाया का दूध
४ पुत्र परिवर्तन वैदिक है |
५ गर्भाधान और योनि संकोचन
६ वेदभाष्य
७ नियोग और पौराणिक धर्मी
८ पौराणिक ईश्वर की पड़ताल
इन सभी लेखो से जिज्ञासु पाठक को अवश्य लाभ होगा |

https://vedrishi.com/wp-content/uploads/2023/09/270d_1f3fb.png 🏻 पं० बुद्धदेव मीरपुरी

https://vedrishi.com/wp-content/uploads/2023/09/2600.png  ग्रंथ परिचय https://vedrishi.com/wp-content/uploads/2023/09/2600.png
पं० बुद्धदेवजी मीरपुरी आर्ष परम्परा के चिन्तक – विचारक थे । आपने कुछ पुस्तकें लिखीं । हमें जितनी उपलब्ध हो सकीं , वह पूज्य स्वामी श्री जगदीश्वरानन्दजी सरस्वती की स्नेहमयी कृपा से सुसज्जित सुव्यवस्थित आपकी सेवा में प्रस्तुत हैं ।

पूर्वकाल में थोड़ा – सा पाप हुआ तो भगवान् ने अवतार लेकर पाप व पापी का नाश किया , लेकिन अब जितना पाप हो रहा है , क्या उसके नाश व धर्मस्थापना के लिए वह अवतार नहीं लेगा ? छह दर्शन हमारी वैदिक परम्परा की थाती हैं जो विदेशी षडयन्त्र के अन्तर्गत परस्पर विरोधी व अमान्य सिद्ध किये गये । महर्षि दयानन्द की मान्यता रही कि यह ईश्वरवादी व एक – दूसरे के पूरक और समर्थक हैं । यही बात पूज्य पण्डितजी ने प्रमाणित की है । इस पुस्तक में संग्रहीत सामग्री हमारे ज्ञानवर्धन के लिए भोजन तो है ही , साथ ही यह सन्देश भी है कि ऋषि की वेदोक्त मान्यताओं के लिए अभी बहुत कुछ करना शेष है ।

https://vedrishi.com/wp-content/uploads/2023/09/2600.png  विषय सूची https://vedrishi.com/wp-content/uploads/2023/09/2600.png
जीवन – यात्रा
पषड्दर्शन – समन्वय
मूर्तिपूजा – मीमांसा
अवतारवाद मीमांसा
वैदिक भक्ति – स्तोत्र
नियोग और पौराणिक धर्मी
पौराणिक ईश्वर की पड़ताल
विवाह 
मृतक श्राद्ध खण्डन
पुत्र परिवर्तन वैदिक है
धाया का दूध
गर्भाधान और योनि – संकोच
वेदभाष्य शास्त्रार्थ महारथी पं० श्री बुद्धदेव मीरपुरी

https://vedrishi.com/wp-content/uploads/2023/09/2600.png  भूमिका https://vedrishi.com/wp-content/uploads/2023/09/2600.png
श्री स्वामी दयानन्दजी महाराज ने सत्यार्थप्रकाश में लिखा है
परन्तु विरोध उसको कहते हैं कि एक कार्य में एक ही विषय पर विरुद्धवाद होवे । छह शास्त्रों में अविरोध देखो इस प्रकार है मीमांसा में – ऐसा कोई भी कार्य जगत् में नहीं होता कि जिसके बनाने में कर्मचेष्टा न की जाए । वैशेषिक में — ‘ समय न लगे बिना बने ही नहीं । न्याय में — ‘ उपादानवकारण के न होने से कुछ भी नहीं बन सकता । योग में — ‘ विद्या , ज्ञान न हो और विचार न किया जाए तो नहीं बन सकता । सांख्य में — ‘ तत्वों का मेल न होने से नहीं बन सकता और वेदान्त में — ‘ बनानेवाला न बनावे तो कोई भी पदार्थ उत्पन्न नहीं हो सके । इसलिए सृष्टि छह कारणों से बनती है । उन छह कारणों की व्याख्या एक – एक की एक – एक शास्त्र में है । इसलिए उनमें विरोध कुछ भी नहीं । ‘ ‘ सत्यार्थ० ८ , पृ० १४१

इस लेख में महर्षि ने छहों दर्शनों की एकता को बड़े स्पष्ट और बलपूर्वक स्वीकार किया है । सहस्रों वर्षों से आर्यावर्त में इस बात का विरोध चला आता था कि दर्शनों में मतभेद है । सैकड़ों ग्रन्थ लोगों ने इस विरोध को पुष्ट करने के लिए लिखे । यहाँ तक कि अकेले वेदान्तदर्शन ही से द्वैतवाद , अद्वैतवाद , शुद्धाद्वैतवाद – द्वैताद्वैतवाद , विशिष्टाद्वैतवाद आदि अनेक सिद्धान्त बना डाले ।

ऐसे भीषण समय में महर्षि दयानन्द का ही कार्य था , जिन्होनें इस बात की घोषणा की कि दर्शनों में कोई भी विरोध नहीं है । यह महर्षि का मनुष्यजाति पर इतना बड़ा उपकार है कि इसको कभी भी भूल नहीं सकते । यदि महाराज का शरीर रहता तब अवश्यमेव महाराज इस अतिगहन विषय पर विस्तार से अपने पुनीत विचार प्रकट करते , किन्तु यह सम्पूर्ण संसार का अभाग्य है कि महर्षि समय से पूर्व ही परलोक सिधार गये । इससे यह महान् कार्य अधूरा ही रह गया । आधुनिक दार्शनिक सम्प्रदाय में अनेक मतभेद पाये जाते हैं , सांख्य तथा मीमांसा में परमात्मा को नहीं माना , न्याय तथा वैशेषिक में परमाणुओं को संसार का उपादानकारण माना है । योग तथा सांख्य में प्रकृति को संसार का उपादानकारण माना है । वेदान्त में ब्रहा को संसार का अभिन्ननिमित्तोपादनकारण माना है । वेदान्त जीव को ब्रह का विकार मानता है , वेदान्त जीव को ज्ञानस्वरूप मानता है , न्याय में जीव को जड़ , अर्थात् उसमें आत्मा तथा मन के संयोग से ज्ञान गुण उत्पन्न होता है , ऐसा माना है । वेदान्त जीव को अकर्त्ता , उभोक्ता मानता है , इत्यादि अनेक मतभेद पाये जाते हैं । यदि ऐसे मौलिक भेद दर्शनों में स्वीकार किये जाएँ तो दर्शन किसी भी कार्य के नहीं ठहर सकते । जब सब दर्शनकार परमात्मा के बनाये वेदों को प्रमाण मानते हैं तब यह कैसे हो सकता कि उनमें इतना बड़ा मौलिक भेद हो । इसलिए इस पुस्तक में प्रत्येक विषय पर सप्रमाण विस्तार से यह सिद्ध किया जाएगा कि दर्शनों में कोई भी मतभेद नहीं है और मतभेद माननेवालों की सम्यतया आलोचना की जाएगी । इसमें कोई सन्देह नहीं कि इस विषय पर अत्यन्त अन्वेषण की आवश्यकता है । मेरी इस पुस्तक से अन्वेषण का मार्ग खुल जाएगा ।- बुद्धदेव मीरपुरी

 

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Meerpuri Sarvasva”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recently Viewed

You're viewing: Meerpuri Sarvasva 300.00
Add to cart
Register

A link to set a new password will be sent to your email address.

Your personal data will be used to support your experience throughout this website, to manage access to your account, and for other purposes described in our privacy policy.

Lost Password

Lost your password? Please enter your username or email address. You will receive a link to create a new password via email.

Close
Close
Shopping cart
Close
Wishlist