Vedrishi

वाल्मीकि रामायण में राजनीतिक विचार

Valmiki Ramayan Men Rajnitik Vichar

400.00

SKU field_64eda13e688c9 Category puneet.trehan
Subject : Politics views in Valmiki Ramayan
Edition : 2020
Publishing Year : 2020
SKU # : 36676-VG00-0E
ISBN : 9788171101004
Packing : Hard Cover
Pages : 270
Dimensions : 14X22X6
Weight : 446
Binding : Hard Cover
Share the book

वाल्मीकि रामायण भारतवर्ष का प्राचीनतम राष्ट्रीय महाकाव्य है, जिसमें भारतीय आर्यों के सामाजिक, आर्थिक एवं राजनीतिक संगठन एवं विचारों का वर्णन मिलता है। एक धर्म-ग्रन्थ के रूप में इस महाकाव्य को जो स्थान भारतीय जन- जीवन में प्राप्त हुआ, वह अन्य किसी ग्रन्थ को नहीं मिल सका है। किन्तु रामायण एक कोरा धर्म-ग्रन्थ मात्र नहीं है। इसमें प्राचीन भारतीय संस्कृति के एक महान युग से सम्बन्धित ज्ञान का अनमोल एवं अगाध भंडार छिपा हुआ है। भारतीय संस्कृति की महान उपलब्धियों का अन्वेषण करने वाले अनेक अनुसन्धान कर्ताओं ने वेद, उप- निषद्, पुराण, महाभारत तथा अन्य प्राचीन साहित्यिक ग्रन्थों का विभिन्न दृष्टिकोण से अनुशीलन किया है। किन्तु रामायण के ऊपर आरोपित धार्मिक कलेवर के कारण ही सम्भवतः इसके समीक्षात्मक, व्यावहारिक एवं आधुनिक दृष्टिकोण से अध्ययन की ओर अपेक्षाकृत कम ध्यान गया है। यही कारण है कि स्वर्गीय श्रीनिवास शास्त्री को कहना पड़ा था कि-

“The ordinary reader of the Ramayana feels edified by the subject and is carried away by the entrancing story. He does not pause to note the numerous references scattered on every page to the social and political conditions of the time. These references are mostly hints which require patient co-ordination and reflection for a full understanding. When a conscientious and discriminating resear- cher puts these hints together and gives a more or less coherent picture of our ancient civilisation, the result is a rich measure of the joy of discovery.”

उस समय से लेकर आज तक कतिपय विद्वानों ने रामायणीय समाज, संस्कृति एवं शासन व्यवस्था का अध्ययन किया है। किन्तु उनका ध्यान इस ओर नहीं गया कि यह इस महाकाव्य में निहित राजनीतिक विचारों का भी विशुद्ध राजनीतिक दृष्टि से व्यवस्थित एवं सुसम्बद्ध संकलन तथा सप्रमाण विवेचन प्रस्तुत करने का प्रयत्न करते। प्रस्तुत ग्रन्थ इसी दिशा में किया गया एक लघु प्रयास है।

Weight 6415688 g

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Valmiki Ramayan Men Rajnitik Vichar”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recently Viewed

You're viewing: Valmiki Ramayan Men Rajnitik Vichar 400.00
Add to cart
Register

A link to set a new password will be sent to your email address.

Your personal data will be used to support your experience throughout this website, to manage access to your account, and for other purposes described in our privacy policy.

Lost Password

Lost your password? Please enter your username or email address. You will receive a link to create a new password via email.

Close
Close
Shopping cart
Close
Wishlist