Vedrishi

निरुक्तम्

Nirukttam

775.00

SKU 37602-AP02-0H Category puneet.trehan
Subject : Nirukttam
Edition : 2019
Publishing Year : 2019
SKU # : 37602-AP02-0H
ISBN : 9788193275634
Packing : N/A
Pages : 690
Dimensions : 14X22X6
Weight : 400
Binding : Paperback
Share the book

भूमण्डल के साहित्य में वेद ही सबसे प्राचीन साहित्य है । प्रार्य जाति को दृष्टि में इसका बड़ा गौरव है। महाभाष्यकार पतञ्जलि ने लिखा है – “ब्राह्मरणेन, निष्कारणः षडङ्गो वेदोऽध्येयो ज्ञेयश्च ।” अर्थात् ब्राह्मण को निष्कारण छहों श्रङ्गों सहित वेद का अध्ययन करना चाहिये और उसका अर्थ भी जानना चाहिये । याज्ञवल्क्य स्मृति में लिखा है

पुराण-न्याय-मीमांसा – धर्मशास्त्राङ्गमिश्रिताः ।

वेदा: स्थानानि विद्यानां धर्मस्य च चतुर्दश | अर्थात् पुराण, न्याय, मीमांसा, धर्मशास्त्र, शिक्षा, कल्प, व्याकररण, निरुक्त, छन्द, ज्योतिष और ऋग्, यजुः, सान, श्रौर प्रथर्व ये चार वेद – ये चौदह विद्या और धर्म के स्थान हैं। इनमें चार वेद ही मुख्य हैं। पुराण, न्याय आदि वेदार्थ का स्पष्टीकररंग करने में ही सहायक होते हैं ।

बिभेत्यल्पश्रुताद् वेदो मामयं प्रहरिष्यति । – अर्थात् थोड़े पढ़े लिखे व्यक्ति से वेद डरता है कि कहीं यह मुझ पर प्रहार न कर दे । वेद पर प्रहार करने का तात्पर्य यही है कि उसके ( वेद के ) अर्थ को ठीकठोक न समझता, अभिप्राय से विपरीत अर्थ कल्पना करना । वेद में धर्म और ब्रह्म का ही निरूपण है। मनु ने लिखा है – “वेदोऽखिलो धर्ममूलम्” श्रीर गीता में लिखा है “वेदैश्च सर्वैरहमेव वेद्यः” । दोनों का तात्पर्य यह है कि समस्त वेद धर्म का मूल है. धर्मज्ञान वेद से ही हो सकता है, मन्वादि धर्मशास्त्र वेदोक्त धर्म का ही विधान करते हैं । समस्त वेदों के द्वारा प्रात्मा अथवा ब्रह्म ( ग्रहमेव) हो वेद्य है । विना वेदज्ञान के प्रात्मज्ञान प्रयदा ब्रह्मज्ञान नहीं हो सकता । विना प्रात्मज्ञान या ब्रह्मज्ञान के सर्वदुःखात्यन्तनिवृत्तिरूप मोक्ष नहीं मिल सकता । – तमेव विदित्वा अतिमृत्युमेति,

नान्यः पन्था विद्यतेऽयनाय || अर्थात् ब्रह्मज्ञान से ही मृत्यु से छुटकारा (मोक्ष) मिल सकता है, दूसरा कोई उपाय नहीं है ।

Weight 800 g

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Nirukttam”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recently Viewed

You're viewing: Nirukttam 775.00
Add to cart
Register

A link to set a new password will be sent to your email address.

Your personal data will be used to support your experience throughout this website, to manage access to your account, and for other purposes described in our privacy policy.

Lost Password

Lost your password? Please enter your username or email address. You will receive a link to create a new password via email.

Close
Close
Shopping cart
Close
Wishlist